ग्रह मैत्री :-
 
सूर्य – चंद्र, बृहस्पति एवं मंगल मित्र बुध सम शुक्र एवं शनि शत्रु सूर्य राहू ग्रहण योग केतू के साथ मध्यम तथा सूर्य बुध मौन रहेता हैं । 
चंद्र - सूर्य बुध मित्र शुक्र, शनि,मंगल सम-संबंधी ।चंद्र का शत्रु कोई भी ग्रह नेही हैं ।चंद्र को केतू से ग्रहण लगता हैं । राहू के साथ मध्यम । 
मंगल - सूर्य,चंद्र,बृहस्पति मित्र संबंध । बुध,केतू शत्रु । राहू, शनि सम तथा राहू मौन । 
बुध - सूर्य, शुक्र, राहू मित्र । शनि ,केतू मंगल तथा बृहस्पति सम । चंद्र शत्रु । 
बृहस्पति – सूर्य, चंद्र मंगल मित्र । राहू,केतू, शनि सम । शुक्र , बुध का संबंध शत्रु ।
शुक्र – शनि, बुध केतू मित्र , मंगल बृहस्पति सम । सूर्य, चन्द्र, राहू शत्रु । 
शनि – बुध, शुक्र, राहू मित्र । केतू बृहस्पति सम । सूर्य , चन्द्र, मंगल शत्रु । 
राहू – बुध, शनि , केतू मित्र । बृहस्पति एबं चंद्र सम । सूर्य , शुक्र तथा मंगल । 
केतू – शुक्र , राहू मित्र । सूर्य ,बुध शनि तथा बृहस्पति सम । चंद्र , मंगल शत्रु ।
 
Contact for Red Book Astrology and Vastu consultation:
Free Consultation on Phone
 
Deepak Pahwa
Address: 49, Silver City, Jwala Singh Chowk
Haibowal Kalan, Ludhiana
 
Info.mantraastro@gmail.com
Mobile: +91 9888909344